skip to Main Content
दुनिया के प्राचीन अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य – Wonders Of The Ancient World

दुनिया के प्राचीन अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य – Wonders of the ancient world

Here we are providing you – some interesting facts about the wonders of the ancient world and their Interesting facts in Hindi. This information is based on some old records and stories. Wonders of the world are old foundations and we are trying to provide you some informative facts:-

दुनिया के प्राचीन अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य

Wonders of the ancient world

1.  दी ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा (Great Pyramid of Giza) Great Pyramid of Giza -sukrajclasses.com

  • इजिप्ट में स्थित गिजा का ये पिरामिड बहुत पुरानी- कलाकृति है, जो प्राचीन 7 अजूबे में से एक है।
  • इसका निर्माण 2580-2560 ई० में हुआ था।
  • यह 2583283 क्यूबिक मीटर में फैला हुआ है और इसकी ऊंचाई 5 मीटर है।
  • 3800 साल तक ये सबसे लम्बी मानव निर्मित कलाकृति रही है।
  • दी ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा सबसे बड़ा और सबसे पुराना पिरामिड है, जो आज भी सुरक्षित मौजूद है।
  • इनका निर्माण पृथ्वी के स्थल-भाग के मध्य बिंदु पर किया गया है अर्थात् पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण जाने वाली ऐसी सामानांतर रेखाएं जो सर्वाधिक स्थलीय भाग से होकर गुजरती हैं,गीजा में एक दुसरे को काटती हैं|
  • इसके प्रवेश द्वार पर सरकने वाले दरवाजे लगे हैं जिनका भार लगभग 20 टन है। ये दरवाजे इतने बेहतरीन तरीके से जोड़े गए हैं कि बाहर से उन्हें खोल पाना कठिन है लेकिन अन्दर से इन्हें बड़ी आसानी से खोला जा सकता है।
  • इसमें पत्थरों का प्रयोग इस प्रकार किया गया है कि इसके भीतर का तापमान हमेशा स्थिर होता है और पृथ्वी के औसत तापमान 20 डिग्री सेल्सियस के बराबर रहता है।
  • इसमें तीन शव-कक्ष है, जिनमे से एक कक्ष सबसे नीचे है, उससे ऊपर रानी का कक्ष है और सबसे ऊपर राजा का कक्ष स्थित है।
  • इसका निर्माण अच्छी तरह से घिसाई व पॉलिश किये गए चूना पत्थर की चट्टानों से किया गया था| ये पत्थर सूर्य के प्रकाश को परावर्तित कर देते थे जिससे पिरामिड जेवर  की तरह चमकता था।

Also Read: दुनिया के सात अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य (Seven Wonders of the world)

2. बेबीलोन के झूलते उपवन (Hanging Gardens of Babylon) बेबीलोन के झूलते उपवन-sukrajclasses.com

  • बेबीलोन के हैंगिंग गार्डन दुनिया के सात प्राचीन आश्चर्यों में से एक थे। यह विभिन्न प्रकार के वृक्षों, झाड़ियों और दाखलताओं के साथ, टियर वाले बगीचों की एक चढ़ाई श्रृंखला के रूप में, इंजीनियरिंग की एक उल्लेखनीय उपलब्धि के रूप में वर्णित है।
  • यह मिट्टी ईंटों के बने एक बड़े हरे पहाड़ जैसा दिखता है।
  • एक प्राचीन कथा के अनुसार, हैंगिंग गार्डन को नियो-बेबीलोनियन के राजा नबूकदनेस्सर द्वितीय द्वारा, उनकी महारानी – अमीटिस के लिए ‘द मार्वल ऑफ़ मैनकाइंड’ नामक एक भव्य महल के साथ बनाया गया था, क्योंकि वह अपनी मातृभूमि की हरी पहाड़ियों और घाटियों को याद करती थीं।
  • यह आज के इराकी नगर अल-हिल्लह के निकट स्थित था।
  • इनके बारे में ये भी कहा जाता है इनकी सिंचाई के लिए रोजाना 31 हजार लीटर पानी की जरुरत पड़ती थी।
  • माना जाता है की ये 75 फीट की ऊंचाई पर बने थे।

दुनिया के प्राचीन अजूबे  – Wonders of the ancient world and their Interesting facts

3. ओलम्पिया में जियस की मूर्ति (Statue of Zeus in Olympia) ओलम्पिया में जियस की मूर्ति-sukrajclasses.com

  • इस मूर्ति का निर्माण युनान के शहर –‘एथेंस’ के शासक ‘पेरीक्लेस’ के मूर्तिकार फ़िडी्यास ने ईसा से 732 साल पहले किया था।
  • इस मूर्ति को यूनान के ओलम्पिया में स्थित जियस के मंदिर में स्थापित किया गया था।
  • इस मूर्ति में जियस को बैठे हुई अवस्था में दिखाया गया है।
  • यह हाथी-दांत और सोने से बनी- 39 फुट ऊँची मूर्ति थी, लेकिन किसी कारणवश भयंकर आग लगने की वजह से यह मूर्ति नष्ट हो गई, जिसका वर्णन कुछ पुराने ग्रीक ग्रंथो और सिक्को पर अंकित पाया जाता है।
  • इसे बनाने में 12 वर्ष का समय लगा था।
  • ओलंपिया बहुत नमी वाली जगह थी। इसी वजह से, हाथी दांत को टूटने से बचाने के लिए इस पर दिन में एक बार जैतून के तेल का लेप किया जाता था।

दुनिया के प्राचीन अजूबे  – Wonders of the ancient world and their Interesting facts

4. अर्टेमिस का मन्दिर (Temple of Artemis) अर्टेमिस का मन्दिर-sukrajclasses.com

  • अर्तिमिस के मंदिर को देवी – डाइना का मंदिर भी कहा जाता है।
  • देवी डायना, जुपिटर देवता की पुत्री थीं और उन्‍हीं की याद में देवी डायना का मंदिर बनवाया गया था।
  • गीक्र देवता – अर्टेमिस (Greek goddess Artemis) को समर्पित इस मंदिर को बनने में 120 साल लगे थे।
  • कई हमलों की वजह से मूल मंदिर तबाह हो गया था। इसी कारण इस मंदिर का पुनर्निर्माण 550 ईसा पूर्व में शुरू हुआ और इसे पूरा होने में लगभग 10 साल लग गए।
  • यह पहला ग्रीक मंदिर था जिसे संगमरमर से बनाया गया था।
  • आर्टेमिस के मंदिर का दूसरा संस्करण पहले वाले की तुलना में अधिक भव्य था।
  • मंदिर के नष्ट होने के बाद, यह माना जाता था कि मंदिर की सभी सामग्री का उपयोग इस्तांबुल शहर में किया गया था।
  • इसका पुर्निर्माण- एलेक्जेंडर द ग्रेट (Alexander the Great) ने करवाया था, परन्तु फिर एक हमलावर ने इसे नष्ट कर दिया।
  • यह आज के तूर्की में स्थित था।
  • लंदन के ब्रिटिश संग्रहालय में आर्टेमिस के मंदिर के अवशेष देखे जा सकते हैं।

दुनिया के प्राचीन अजूबे  – Wonders of the ancient world and their Interesting facts

5. माउसोलस का मकबरा/ हल्लीकेनसस का मकबरा (Mausols Tomb/ The Mausoleum at Halicarnassus) माउसोलस का मकबरा-sukrajclasses.com

  • माउसोलस का मकबरा विश्व के सात प्राचीन आश्चर्यो में से एक है।
  • ये तुर्की में स्तिथ है।
  • यह सफेद संगमरमर का एक विशाल मकबरा था, जिसे कारिया (आधुनिक तुर्की) के राजा – मौसोलस ने उनकी बहन व पत्नी आर्टेमिसिया के लिए 623 ईसा पूर्व में बनवाया था।
  • यह मकबरा 150 फीट ऊँचा था और दिखने में इसका आकार एक पिरामिड के समान था, लेकिन एक भूकम्‍प के कारण यह नष्‍ट हो गया।
  • मकबरे का निर्माण हालिकारनासस शहर में एक पहाड़ी पर किया गया था। यह एक विशाल आधार पर बनाया गया था, जिससे इसकी लम्बाई लगभग 45 मीटर (148 फीट) थी।
  • यह लगभग वर्ग-आकार का था, जो 164 फीट (50 मीटर) से अधिक ऊंचा था| इसके पिरामिड की छत को मजबूत रखने के लिए – आयनिक कॉलम बनाये गए थे। इसमें सबसे ऊपर, चार घोड़ों द्वारा खींचते रथ में मौसोलस और आर्टेमिसिया की एक बड़ी मूर्ति थी।
  • यह भी माना जाता है कि हैलिकार्नासस के मकबरे से प्रेरित होकर अलेक्जेंडर द ग्रेट और बेलेवी मौसोलम का मकबरा बनाया गया।
  • 1402 में, नाइट्स ऑफ सेंट जॉन ने इस क्षेत्र पर आक्रमण किया और बोडरम के महल का निर्माण किया। इसमें उसने मकबरे से पत्थरों का इस्तेमाल किया जो अभी भी मौजूदा बोडरम कैसल में शामिल है।
  • हैलिकार्नासस का मकबरा प्राचीन ग्रीक इतिहास में बहुत कम निर्माणों में से एक है जिसमें ग्रीक देवताओं का चित्रण करने के बजाय लोगों और जानवरों की मूर्तियाँ हैं।

दुनिया के प्राचीन अजूबे – Wonders of the ancient world and their Interesting facts

6. रोडेस कि विशालमूर्ति (Colossus Rhodes Immense Statue) रोड्स का कॉलॉसस-sukrajclasses.com

  • यह यूनानी द्वीप – रोडेस पर स्थित, यूनानी देवता – हेलियोस की एक प्राचीन विशाल मूर्ती है।
  • यह मूर्ती भी विश्व के सात प्राचीन आश्चर्यो में से एक है, जो कि प्राचीन काल में विश्व की सबसे उंची मूर्ती हुआ करती थी।
  • यह मूर्ति करीब 300 ईसा वर्ष पूर्व बनाई गई थी।
  • राजा – रोडेस ने जब सिप्रूस के राजा पर जीत हासिल की थी, तब उस जीत की खुशी में इस मूर्ति को बनाया गया था।
  • इस मूर्ति की ऊंचाई लगभग 90 फीट थी।
  • 226 ईसा पूर्व एक भूकम्‍प के कारण यह मूर्ति भी नष्‍ट हो गई।
  • स्टैच्यू ऑफ़ लिबर्टी को आज की ‘मॉडर्न कोलोसस’ कहा जाता है|
  • हैरोड्स के कोलोसस और स्टैच्यू ऑफ़ लिबर्टी दोनों को स्वतंत्रता के प्रतीक के रूप में बनाया गया था।
  • 7 वीं शताब्दी में अरबों ने रोडियन को जीतने के बाद मूर्ति के बचे हुए टुकड़े को नष्ट कर दिया और इसे स्क्रैप धातु के रूप में बेच दिया।
  • सभी स्क्रैप धातु को ले जाने के लिए लगभग 900 ऊंटों का उपयोग किया गया था।

दुनिया के प्राचीन अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य – Wonders of the ancient world and their Interesting facts

7. ऐलेक्जेन्ड्रिया का प्रकाशस्तंभ (The Lighthouse of Alexandria) सिकन्दरिया का प्रकाशस्तंभ-sukrajclasses.com

  • ऐलेक्जेन्ड्रिया का प्रकाशस्तंभ भी विश्व के सात प्राचीन आश्चर्यो में से एक है।
  • यह प्रकाशस्तंभ (Lighthouse) नाविकों को रास्‍ता दिखाने के‍ लिए मिश्र के देवता – फ़ेरोस (Pharos) की याद में बनाया गया था।
  • इसका निर्माण 280 ईस्वी पूर्व से 247 ईस्वी पूर्व के बीच में हुआ था।
  • इसकी ऊंचाई 393 से 450 फ़ीट के लगभग थी लेकिन भूकम्‍प के कारण यह प्रकाशस्तंभ भी नष्ट हो गया।
  • बाद में 15वी Century में इस प्रकाशस्तंभ (Lighthouse) के बचे हुए पत्थरों को इसी जगह बने Citadel of Qaitbay में इस्तेमाल कर लिया गया था।
  • प्रकाशस्तंभ तीन आकृतियों में बनाया गया था, जो अंदर की ओर झुका हुए थी। यह सबसे नीचे वर्ग, बीच में अष्टकोणीय और शीर्ष पर बेलनाकार था। शीर्ष पर एक स्पाइरल रैंप था जो रात के समय जलाया जाता था।
  • कुछ विवरणों की रिपोर्ट है कि प्रकाशस्तंभ को एक विशाल प्रतिमा द्वारा अधिभूत किया गया था, संभवतः यह दिखाया गया था कि सूर्य देवता, हेलिओस के रूप में सिकंदर महान या टॉलेमी आई सोटर का प्रतिनिधित्व करते थे।

If you like and think that information about “दुनिया के प्राचीन अजूबे और उनके रोमांचक तथ्य – Wonders of the ancient world and their Interesting facts” was helpful for you, Please comment us. Your comments/suggestions would be greatly appreciated. Thank you to be here. Regards – Team SukRaj Classes.

Back To Top
error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

SukRaj Classes will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.